मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

शुक्रवार, 15 जुलाई 2016

जयपुर की सैर == भाग 6 ( Jipur ki sair = bhag 6 )


जयपुर की सैर  == भाग 6









तारीख 13 को  हम बॉम्बे से 3 सहेलियां निकली थी जयपुर जाने को  'सम्पर्क क्रांति ट्रेन ' से और वो  रात कयामत की रात थी। ... 

अब आगे ----


18 अप्रैल 2016

आज सुबह देर तक सोते रहे क्योकि कल बहुत थक गए थे 9 बजे सब उठ गए आज मैंने सबको इंदौर के फेमस पोहे बनाकर खिलाये । सबको बहुत अच्छे लगे फिर हम मार्किट जाने को तैयार होने लगे  आज हम मार्किट जा रहे थे कुछ शॉपिंग करने..

आज सुबह हमारे एक और मित्र 'अरविंद भट्ट' जी हमसे मिलने आ गए, उन्होंने गुलाब के फूलों से और चॉकलेट से हमारा जोरद्वार स्वागत किया । फिर हम उनकी गाड़ी से बापू मार्केट तक आये ,आज उनको भी काम था इसलिए उनकी दावत कल के लिए स्थगित कर दी । कल मिलने का बोलकर वो चले गए पर शाम को हमको  घर छोड़ने का वादा किया अब हम दिनभर शॉपिंग करेगे।

हम बापू मार्किट में आये यहाँ पर  राजस्थानी साजो समान भरा पड़ा है जिसको देखना ही बहुत अच्छा लगता है ।पर भाव- ताव बहुत होता है टूरिज्म प्लेस होने के कारण पहले भाव ज्यादा बोलते है फिर धीरे धीरे कम करते है । गर्मी बहुत थी और हम गर्मी से बेहाल हो रहे थे फिर भी हमने यहाँ से राजस्थानी लहँगा, बैग, चूड़ियाँ,  चप्पल, चादरें, पेंटिंग वगैरा खरीदी और सबने यहाँ के मशहूर घाघरे खरीदे ।यहाँ की मशहूर चाट खाई। दिन भर हम नीबू पानी और जूस पीते रहे ताकि पानी की कमी न हो । वैसे हम घर पर से भी ठंडा ग्लूकोश का पानी बनाकर लाये थे।

पूरा दिन शॉपिंग करते रहे और शाम को अरविंद जी आ गये ,गर्मी अपनी चरम सीमा पर थी । मार्किट में गर्मी से झुलसते हुए जब कार के AC की ठंडी हवा आई तो मुझे तो नींद के झोंके आने लगे।
राजाजी बाग पहुंचकर अरविंद ने एक - एक लस्सी पिलाई और हम अपने घर पहुँच गए ।आज बहुत थक गए थे मुझसे तो उठा ही नहीं जा रहा था, अल्ज़िरा ने ही पुलाव बनाये और सबने खाये और जो सोये की पूछो मत

19 अप्रैल2016
सुबह 5 बजे मीना अक्सर उठ जाती है आज उसी ने सबके लिए नाश्ता बनाया अंडे और ब्रेड .. पहले वो  बाजार से अंडे और ब्रेड लाई फिर सबको उठाया, हम सब फ्रेश होकर अरविंद का इंतजार करने लगे देखते है आज अरविंद ने कहाँ ले जाना है ।
ठीक टाईम पर अरविंद के साथ हम सब मैँ, अल्ज़िरा, नीना और मीना निकल पड़े। 

आज हम सबने कल का खरीदा हुआ घाघरा और चप्पल पहना था। पहले अरविंद अपने IT कॉलेज लेकर आये जहाँ वो प्रोफ़ेसर है उनके कॉलेज के शानदार बगीचे में हमने कुछ फोटू खिंचे फिर हमारी कार जयपुर की व्यस्त सड़कों से गुजरती हुई जयपुर के बड़े मॉल वर्ल्ड ट्रेड पार्क  में आई , बहुत विशाल और भव्य मॉल था। आज हमारा लन्च यही था। आज का दिन हमने इसी मॉल में बिताया। और यह एक यादगार दिन साबित हुआ।






 लक्ष्मी मिष्ठान भंडार के टेस्टी  दही भल्ले और टिकिया 






LMB  



 कॉलेज के कम्पाउंड में -- मैँ  नीना और मीना  


वर्ल्ड ट्रेड पार्क बाहर का दृश्य 



























इस तरह आज का दिन मजेदार रहा


6 टिप्‍पणियां:

SACHIN TYAGI ने कहा…

जिंदगी जीने का तरीका कोई आप से सीखे। बहुत बढिया यात्रा चल रही है पर जयपुर की एतिहासिक इमारते, स्थान के बारे में भी बताए, तो ओर मजा आ जाएगा।

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " अलगाववाद का नशा!! " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

दर्शन कौर धनोय ने कहा…

थैंक्स सचिन , अब अगली पोस्ट सभी ऐतिहासिक जगह की है

स्वाति ने कहा…

वाह, बहुत मजे किए आप सभी स‍हेलियों ने। रोचक पोस्‍ट ।

दर्शन कौर धनोय ने कहा…

थैंक्स स्वाति जी , सचमुच यादगार दिन थे जो हमने जिए

दर्शन कौर धनोय ने कहा…

थैंक्स स्वाति जी , सचमुच यादगार दिन थे जो हमने जिए