मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

बुधवार, 5 जनवरी 2011

प्रेम दीवानी

तुम ..वो ..ऊचाई  हो ...
जिसे छूने के प्रयास मे  -
मै  बार  बार गिरती गई -गिरती  गई -
परत -दर -परत तुम्हारे सामने -
खुलती रही ---बिछती रही -
पर --तुम्हारे  भीतर  कही  कुछ  उद्वेलित नही  हुआ ----|
मेरी आत्म -- स्वकृति को तुमने  कुछ  और ही अर्थ  दे  डाला --?
मै अंधी गुमनाम धाटियो मे तुम्हारा नाम पुकारती रही -----
धायल  !
खुरदरी --पीड़ा -जनक -!!
अकेलेपन  का एहसास !!!
ल--- म्बे  समय  से झेल रही हु ------?
 नाहक ,तुम्हे बंधने की कोशिश ---
" छलावे के पीछे भागने वाले  ओंधे मुंह गिरते है -"
इस तपती हुई मरुभूमि मे ----
चमकती -सी बालू -का -राशि ---
जैसे कोई प्यासा हिरन ,पानी के लिए ----
कुलांचे  भरता जाता है ---                  
अंत--  मे  थककर दम तोड़ देता है ---
राज , ---तुम्हारे लिए --------
इस मरु भूमि मे ---मै भी भटक रही हूँ ----
काश -- कि --तुम ----मिल जाते --------|

5 टिप्‍पणियां:

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत मार्मिक शब्द रचना | धन्यवाद|

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

शुक्रिया ,pataliji मेरे 'अरमानो ' मे आने का ----

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय दर्शन कौर जी
नमस्कार !
क्या बात है..बहुत खूब....बड़ी खूबसूरती से दिल के भावों को शब्दों में ढाला है.

संजय भास्कर ने कहा…

अंतिम पंक्तियाँ दिल को छू गयीं.... बहुत सुंदर कविता....

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

धन्यवाद संजय भास्करजी ,होसला बडाने के लिए | इसी तरह आते रहिए ----अभिनन्दन