मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

शुक्रवार, 21 जनवरी 2011

# सुनहरी यादें #

* याद आते हो तो कितने ----
अपने -से लगते हो तुम ----
वर्ना,  हर लम्हां गुजरता हे ----
तुम्हारे ख्यालो में ----
चुप -सी आँखों में आज ----
फिर वही सवाल उठा ----
क्या राहत मिलेगी मुझे ----
इन बंद फिजाओ में ----!
खेर, अँधेरे  भी  भले -जीने के लिए ----
गैर, हो जाते हे सभी चेहरे उजालो में----
मुस्कुराओ तो भी अच्छा हे ----
बेरुखी भी भली तुम्हारी ----
बेअसर हे सभी बाते यहाँ मलालो में ----
याद आते हो तो एहसास -ऐ -ख़ुशी मिलती हे ----
यूँ तसल्ली भी गिरफ्तार हे सो (१००) तालो में----|           

5 टिप्‍पणियां:

sagebob ने कहा…

यूँ तसल्ली भी गिरफ्तार हे सो (१००) तालो में----
बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति .

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA ने कहा…

सुन्दर शब्दों की बेहतरीन शैली ।
भावाव्यक्ति का अनूठा अन्दाज ।
बेहतरीन एवं प्रशंसनीय प्रस्तुति ।

संजय भास्कर ने कहा…

अच्छी लगी आपकी कवितायें - सुंदर, सटीक और सधी हुई।

संजय भास्कर ने कहा…

"माफ़ी"--बहुत दिनों से आपकी पोस्ट न पढ पाने के लिए ...

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

शुक्रिया संजय जी , मै सोच ही रही थी की आप कहाँ चले गए --स्वागत हे आपका |