मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

रविवार, 10 जुलाई 2011

प्रेम -सेतु





"जिन्दगी तो मिल गई थी चाही या अनचाही--!
बीच मैं यह तुम कहाँ से मिल गए राही --!!"




हम दोनों नदी के दो किनारों की तरह हैं --

जो आपस मैं कभी नही मिलते --?
दूर~~ क्षितिज मैं भी नहीं--?
जहां जमीन- आसमान एक दिखते हैं --
हमे यू ही अलग -अलग चलना हैं --
पुल का निर्माण ही,
हमारे मिलन की कसौठी हैं !
जो असम्भव हैं ---?

 क्योकि जीवन वो उफनती नदी हें 
जिस पर सेतु बनना ना मुमकिन हैं   
आधा पहर जिन्दगी का गुजर चूका है --
कुछ बाकी हैं --
वो भी गुजर ही जाएगा --???
फिर क्यों महज चंद दिनों के लिए यह रुसवाई --
हमे यू ही सफ़र तैय करना हैं --
अलग -अलग --जुदा -जुदा,




वैसे भी दोनों किनारों मैं कितनी असमानता हैं --

अलग प्रकृति !
अलग शैली !
अलग ख्वाहिशे हैं --!

इस तरफ --
प्यार हैं --चाहत हैं,
रंगीन सपने हैं --
मिलन की अधूरी ख्वाहिश हैं --
मर मिटने की दलील हैं --???

उस तरफ --
सिर्फ एहसास हैं --
जिन्दा या मुर्दा --
पता नही --?
पीड़ा देता हैं यह एहसास --!
चुभन होती हैं इससे -- !!
दर्द होता हैं --!!!
यह मृग-तृष्णा मुझे कब तक छ्लेगी --???

सिहर उठती हूँ---





यह सोच कर
कही उसके दिल मैं ' कुछ ' नहीं हुआ तो ?
कैसे रह पाउंगी --उसको खोकर ?
कैसे सह पाउंगी --उसका वियोग ?
यह मृत्यु -तुल्य बिछोह ???
मुझे अंदर तक तोड़ जाएगा ----!
"तो छोड़ दूँ"  
ज़ेहन में  उभरा एक सवाल ?
पर मन कहा मानने वाला हैं --
मन तो चंचल हैं !

समर्पित हैं ! 

उस अनजानी चाह पर,
यंकी हैं,उस अनजाने आकार पर ....   
 जो बसा हैं एक अनजाने नगर में --
दिल जिसे ढूंढता हैं एक अनजानी डगर पें--
तो चलने दूँ --- 
इस सफर को -- इस सिलसिले को ..
निरंतर --यु- ही --अलग -अलग --
कम से कम साथ तो हैं --?

अलग -अलग ही सही ???  





जिन्दगी से यही गिला हैं मुझे !
तू बहुत देर से मिला हैं मुझे  !

46 टिप्‍पणियां:

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

नदी पर बना पुल बडा शानदार है,
किस जगह का है,
पहले वाला व बाद वाला पुल बताना जरुर

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@ हा,संदीप बताती हूँ ताकि अगला पडाव वही का हो ... मुझे ले जाना मत भूलना ..

सुज्ञ ने कहा…

सेतू की भावमयी प्रस्तुतियां!! एक से एक शानदार!! शुभकामनाएँ!!

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@धन्यवाद !सुज्ञ साहेब ..

योगेन्द्र पाल ने कहा…

बहुत सुन्दर तथा भावमयी रचना है

वीडियो - नये ब्लोगर डैशबोर्ड से संक्षिप्त परिचय

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

पथिक वही जो राह में मिल जाए
मंजिल वही जो चाह से मिल जाए
बन जाएगा सेतू मिलन का कारक
गुलाब वही जो काटों में खिल जाए

लो जी चार लैन की पटरी हमने भी बैठा दी पुल पे :)
आभार

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@योगेंदर जी धन्यवाद !
@ललित जी,धन्यवाद ! आपकी चार लाइन की पटरी तो बहुत मजबूत निकली ..

रश्मि प्रभा... ने कहा…

यंकी हैं,उस अनजाने आकार पर ....
जो बसा हैं एक अनजाने नगर में --
दिल जिसे ढूंढता हैं एक अनजानी डगर पें--
तो चलने दूँ ---
इस सफर को -- इस सिलसिले को ..
निरंतर --यु- ही --अलग -अलग --
कम से कम साथ तो हैं --?bahut khoob

Rajesh Kumari ने कहा…

dil ki gahraaiyon se nikli hui tasveer lagti hai
yun hi nahai baat kuch gambheer lagti hai.
Darshan ji kavita aur chitr dono lubha gaye. khaskar last ki do lines....जिन्दगी से यही गिला हैं मुझे !
तू बहुत देर से मिला हैं मुझे !

सुव्यवस्था सूत्रधार मंच ने कहा…

पुल का निर्माण ही,
हमारे मिलन की कसौठी हैं !
जो असम्भव हैं ---?

व्यक्ति में दृढ इच्छाशक्ति से कोई भी निर्माण असंभव नहीं..भावनाओं की शक्ति अदम्य होती है


कृपया समय निकालकर हमारे मंच सुव्यवस्था सूत्रधार मंच पर आयें और हमारा उत्साहवर्धन करें..
सामाजिक धार्मिक एवं भारतीयता के विचारों का साझा मंच..

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

मन को छू जाने वाले भाव...

------
TOP HINDI BLOGS !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत भावाभिव्यक्ति .. चित्र तो गज़ब के लगाए हैं ...

डॉ टी एस दराल ने कहा…

तो चलने दूँ ---
इस सफर को -- इस सिलसिले को ..
निरंतर --यु- ही --अलग -अलग --
कम से कम साथ तो हैं --?

यही साथ जीवन की डोर है . इसे पकडे रहना चाहिए .
सुन्दर चित्रमयी रचना .

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

चित्रों के साथ सजी हुई प्रेम का यह अभिव्यक्ति बहुत खूबसूरत रही!

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत ही खूबसूरती से भावो को वयक्त किया है आपने....

सतीश सक्सेना ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुतियां ...शुभकामनायें आपको !

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

पुल का निर्माण ही,
हमारे मिलन की कसौठी हैं !

बेहतरीन रचना दर्शनजी..... सुंदर चित्र और प्रभवित करते भावों से सजी प्रस्तुति...

Roshi ने कहा…

sarthak prastuti sunder bhav ke sath

H P SHARMA ने कहा…

kam se kam saath to hai alag alag hi sahi

bahut khoon.

G.N.SHAW ने कहा…

जिन्दगी से यही गिला हैं मुझे !
तू बहुत देर से मिला हैं मुझे !
gahari vedanaa !

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

china ka bridge achha laga aapki bhavnaao ke saath!

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

दर्शन जी!! सबसे पहले तो एक बात ये है की आप जो भी पोस्ट करते हो, बहुत मनोयोग से करते हो....खूब सजाते संवारते हो...इस कविता में भी वो बात है, फोटो बेहतरीन है...!
अब बात मिलने की....:) हमने गणित में पढ़ा था, दो सामानांतर रेखाएं अनंत पे जाकर मिलते हैं...यानि मिलना जरुरी है....:)...जैसे नदी का किनारा हो या आपके इस कविता के पात्र :)
रचना बेहतरीन है मित्र :)

मंजुला ने कहा…

बहुत सुन्दर.... मन की कोमल भावनायो का सुन्दर चित्रण
पहली बार पढ़ा आपको अच्छा लगा
शुभकामनाये

नीरज गोस्वामी ने कहा…

आपके शब्द और चित्र स्तब्ध कर देते हैं...इस बेजोड़ रचना के लिए बधाई स्वीकारें...i

सदा ने कहा…

जिन्दगी से यही गिला हैं मुझे !
तू बहुत देर से मिला हैं मुझे !
इन पक्तियों के लिये बधाई स्‍वीकारें ...बहुत खूब ।

कुश्वंश ने कहा…

इस तरफ --
प्यार हैं --चाहत हैं,
रंगीन सपने हैं --
मिलन की अधूरी ख्वाहिश हैं --
मर मिटने की दलील हैं --???
वाह खूबसूरत पंक्तियाँ, संपूर्ण कविता भावभीना अहसास करती रही

Rachana ने कहा…

यंकी हैं,उस अनजाने आकार पर ....
जो बसा हैं एक अनजाने नगर में --
दिल जिसे ढूंढता हैं एक अनजानी डगर पें--
तो चलने दूँ ---
इस सफर को -- इस सिलसिले को ..
निरंतर --यु- ही --अलग -अलग --
कम से कम साथ तो हैं
bahut sunder
rachana

mahendra verma ने कहा…

उस अनजानी चाह पर,
यंकी हैं,उस अनजाने आकार पर
जो बसा हैं एक अनजाने नगर में --
दिल जिसे ढूंढता हैं एक अनजानी डगर पें--

anjani chah, anjane aakar, anjane nagar, anjani dagar---
wah, bahut badhiya abhivyakti.

amrendra "amar" ने कहा…

यंकी हैं,उस अनजाने आकार पर ....
जो बसा हैं एक अनजाने नगर में --
दिल जिसे ढूंढता हैं एक अनजानी डगर पें--
तो चलने दूँ ---
इस सफर को -- इस सिलसिले को ..
निरंतर --यु- ही --अलग -अलग --
कम से कम साथ तो हैं --?
kaisi vyatha hai in sabdo me apni or khiche liye chale jate hai, bahut hi umda rachna.badhai

aarkay ने कहा…

शायद इस प्रेम में अभी वो शीरीं-फरहाद वाली बात नहीं है , वर्ना सेतु की भी दरकार न होती !
खूबसूरत एहसास और अभिव्यक्ति !

श्यामल सुमन ने कहा…

बहुत खुबसूरत भाव की रचना दर्शन जी - हर शब्द अपना अर्थ कहने में सफल -

प्रेम - सेतु शीर्षक सुमन और जुदा है अंत.
दर्शन पल पल जिन्दगी खुशियाँ जहाँ अनंत..

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
http://www.manoramsuman.blogspot.com
http://meraayeena.blogspot.com/
http://maithilbhooshan.blogspot.com/

मदन शर्मा ने कहा…

दर्शन कौर धनोए जी नमस्कार !
व्यस्तता के कारण देर से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.
वैसे तो आपका ब्लॉग ही कमाल का है, पर जब भी नया कुछ मिलता है काफ्फी बढ़िया लगता है !

कृपया यही प्रवृत्ति आगे के लेखों में भी बनाए रखिये.
मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं आपके साथ हैं !!

संजय भास्कर ने कहा…

वाह बेहतरीन !!!!

भावों को सटीक प्रभावशाली अभिव्यक्ति दे पाने की आपकी दक्षता मंत्रमुग्ध कर लेती है...

संजय भास्कर ने कहा…

अस्वस्थता के कारण काफी दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था पर अब  आप सभी के समक्ष पुन: उपस्थित हूँ ।

mahendra srivastava ने कहा…

लेख में इस तस्वीर ने चार चांद लगा दिया।
बहुत सुंदर

Vivek Jain ने कहा…

बेहतरीन,
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

Rakesh Kumar ने कहा…

जिन्दगी से यही गिला हैं मुझे !
तू बहुत देर से मिला हैं मुझे !

आपका अंदाजे बयां भी खूब है
खुद ही देरी करके
देर से मिलने की गिला करते हो

आपने मेरे ब्लॉग पर दर्शन देकर
कृतार्थ कर दिया है मुझे.
बहुत बहुत शुक्रिया दर्शी जी.

Maheshwari kaneri ने कहा…

खूबसूरत चित्रों के साथ खूबसूरत एहसास और अभिव्यक्ति !...

Kunwar Kusumesh ने कहा…

जिन्दगी से यही गिला हैं मुझे !
तू बहुत देर से मिला हैं मुझे !

खूबसूरत एहसास

सुमन'मीत' ने कहा…

aaj pahli bar aapke blog par aai hun...sach maniye ajib si santushti mili ..aapki rachna jivan ke bahit najdik lagi

शिखा कौशिक ने कहा…

ह्रदय के भावों की सुन्दर व् मार्मिक अभिव्यक्ति .आभार

anu ने कहा…

आपकी कविता के जवाब में ये चार(४) पंक्तियाँ लिखुगी बस


दिल के समंदर में
हर राज़ छिपा लिया है
खुद से भी छिप कर मैंने ,
तुमसे एक रिश्ता बना लिया है ||
anu

jharia ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.
H P SHARMA ने कहा…

prem ki prastuti koi aapse seekhe.

H P SHARMA ने कहा…

har kavita mai prastitka tareeka navyataa liye hota hai