मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

रविवार, 25 नवंबर 2012

"अद्रश्य डोर "









उसके  और मेरे बींच वो क्या है  जो हम दोनों को जोडती  है ...
एक अद्रश्य डोर है  जो  मजबूती से हमे जकड़े  हुए है ....
वो इसे प्यार नहीं कहता ---
पर यह मेरे प्यार का  एहसास है---  
मैं उसे बेहद प्यार करती हूँ  ---
मैं  इस एहसास को क्या नाम दूँ  ...
समझ नहीं पाती  हूँ ...
वो कहते है न---- ' दिल को दिल से राह होती  है---'
जब भी वो अचानक मेरे ख्यालो की खिड़की खोल कर झांकता  है ...
तो मैं  तन्मयता से उसे  निहारती हूँ --
तब सोचती हूँ की यह क्या है ? जो हमे एक दुसरे से जोड़े हुए है --?
मैं इसे प्यार का नाम देती हूँ --
तब वो दूर खड़ा इसे 'इनकार' का नाम  देकर मानो अपना पल्ला झाड लेता है -- 
 क्यों वो इस 'लौ ' को पहचानता नहीं ----?
या पहचानता तो है पर मानता नहीं ..?
पर इतना जरुर है मेरे बढ़ते कदम उसके इनकार के मोहताज नहीं .......



12 टिप्‍पणियां:

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 27/11/12 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका चर्चा मंच पर स्वागत है!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

पर इतना जरुर है मेरे बढ़ते कदम उसके इनकार के मोहताज नहीं .......

बहुत खूब .... सुंदर भावभिव्यक्ति

RITESH GUPTA ने कहा…

अति सुन्दर कविता.....

डॉ टी एस दराल ने कहा…

कभी कभी ना में भी हाँ होती है.

Reena Maurya ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना..
:-)

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

बहुत सुंदर रचना |

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

:) adrishya dor.. hame bhi dikh gayee:)

sushma 'आहुति' ने कहा…

behtreen rachna abhivaykti....

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

वाह बहुत खूब ....मन के अहसास यूँ ही कायम रहे और आपकी खिलखिलाती हँसी भी

Hari Sharma ने कहा…

lagtaa hai naayika ko kisee maayaavee se pyaar ho gayaa hai. aisee koi dor hame to kshee dikhti nahi.

वाणी गीत ने कहा…

एक अनदेखी अदृश्य डोर जो बांधे रखती है सबको !!

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बहुत खूबसूरत रचना है...

नीरज