मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

बुधवार, 16 फ़रवरी 2011

( पटना ) राजगीर ! नालंदा ! ( 2 )

31  अगस्त 2010 


२८ तारीख से मुम्बई से सफ़र शुरू किया था--३० तारीख को हम यहाँ पहुंचे --कल पूरा दिन हम तख्त हरमिंदर साहब में ही रहे--


सिक्ख -पंथ के चार तख़्त हे --जहां से सिक्ख कोम को आदेश मिलते हे  और गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी संचालन करती  हे--जिसका  नाम हे शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेंटी-- ये तख्त हे =


(१)तख्त हरमिंदर साहिब अमृतसर |(पंजाब )
(२)तख्त हरमिंदर साहिब पटना साहब | (बिहार )
(३)तख्त हुजुर साहिब अविचल नगर (नांदेड, महाराष्ट्र)
(४)तख्त केशगढ़  साहिब आनंदपुर साहिब (पंजाब )       


"चायsssssss  चाय वाले की आवाज से नींद खुली --८ बज रहे थे --सारी  रात सो नही सके --गर्मी बहुत थी --उस पर बिजली की लानत ! जनाब, पटना   में बिजली का बड़ा रोना  हे--बार -बार जाती रहती हे -- ?
एक  बात बड़ी पसंद आई सुबह ही रूम पर चाय मिल गई --समझो जहाँ मिल गया --बेड-टी की आदत जो पड़ गई हे --


खेर, तैयार होकर हम गुरूद्वारे सा.पहुंचे--पाठ  किया फ़िर नाश्ता करने गए --तब तक गाडी आ गई थी --गाडी हमे गुरूद्वारे की प्रबन्धक कमेटी की तरफ से मिल गई  थी--वरना प्रायवेट गाडी वाले तो लुटते हे ---   



( रेखा और मै नाश्ता करने जा रहे हे )

(गुरूद्वारे जाते हुए मिस्टर )

और अब हम जा रहे हे --गंगा किनारे से सटे हुए बाज़ार चोक की और --
शहर में काफी गंदगी हे --मेंन बाज़ार की सडक पर ही टनो कचरा पड़ा हे-- इससे ट्राफिक जाम लगता रहता हे --गर्मी से वेसे ही बुरा हाल हे --यदि यहाँ आने का प्रोग्राम बनाए तो सर्दिया  ही बेस्ट हे --
हमने चोक से लस्सी पी ताकि ठंडक बनी रहे --यहाँ के मुनेर के लड्डू काफी फेमस हे जो की चावल के बने होते हे--और सिलाव का खाजा बड़ा पसंद आया वेसे खाजा यहाँ सभी जगह मिलता हे --          

इतिहास :-

पटना शहर के इतिहास की बात हो जाए --

पटना शहर बिहार राज्य की राजधानी हे--इसे ३००० हजार वर्ष से लेकर अब तक भारत देश का गोरव शाली शहर होने का दर्जा प्राप्त हे --गंगा किनारे बसा हुआ यह शहर बहुत -सी ऐतिहासिक इमारतो के लिए भी जाना जाता हे --पटना शहर मगध साम्राज्य की राजधानी हुआ करता था, यह चन्द्र गुप्त  मोर्य,सम्राट अशोक ,चन्द्र गुप्त दिवतीय व् समुद्र गुप्त यहाँ के महान शासक हुए हे --चीनी यात्री व्हेगसांग का प्रथम आगमन यही हुआ--महान                              कुटनितीज्ञ  कोटिल्य,ने अर्थशास्त्र की रचना यही की थी --यही विष्णु शर्मा ने पञ्चतन्त्र लिखी थी --फेमस विश्व विधालय नालंदा भी यही हे --
मुगलों और अंग्रेजो के समय भी पटना शहर व्यापर के लिए प्रमुख शहर माना जाता था--|

आजादी के बाद बिहार स्वतंत्र राज्य बना और पटना उसकी राजधानी बना --आजकल इसका एक नाम और हे वो हे ' लालू का पटना  |'


चलो -- अब हम पहुँच चुके हे,  राजगीर  = राजगीर पर्वत पर भगवान बुध्द ने कई उपदेश दिए --जापान के बुध्द -संध ने इसकी चोटी पर एक  शांति -स्तूप बनाया हे --स्तूप के चारो कोनो पर भगवान बुध्द की मुर्तिया स्थापित की हे --पहाड़ पर पैदल मार्ग के साथ ही एक रोप -वे का भी इंतजाम हे --जो आपको फटाफट पहाड़ पर चडा देगा --चित्र देखिए ---

( रोप - वे )


(ऊपर जाते हुए )
  

( नजदीक से )
              


(इसमें मिस्टर बैठे हुए हे )


( पहाड़ी से दिखता हुआ बड़ा घंटा )   




(पहाड़ी पर मै --बहुत दूर  घंटा दिखाई दे रहा हे  )




(शांति -स्तूप  पीछे  दिखाई दे रहा हे )


(  अपनी सहेलियों के साथ  )   

( चीनी भाषा में लिखा आलेख ) 


(चारो कोनो पर लगी मूर्ति ) 
(स्तूप के पास लगी हुई शेर की प्रतिमा )


(भगवान् बुध्द के मन्दिर के बाहर खड़ी रेखा ) 

राजगीर छोटी-सी जगह हे --छोटी -मोटी दुकाने हे --रोप -वे का शुल्क २५रु हे --यह सुबह 8 बजे से शुरू होकर12.30 तक रहता हे ,बाद में 2.00 से शाम ५बजे तक खुला रहता हे --पहाड़ी पर बड़ा मनोरम द्रश्य देखने को मिला -- यहाँ कई खूबसुरत बगीचे बने हुए हे -- मंदिर भी हे -ठंडी -ठंडी हवा के झोके गर्मी भुला देते हे --काफी सेलानी धूम रहे थे --काफ़ी सुन्दर वातावरण था     
हम जब वापस हुए तो १ बज रहा था उनका लंच -टाइम हो गया था -रोप -वे बंद हो गए थे-- अब हमे यही २बजे तक इन्तजार करना था--हमारे बहुत से साथी नीचे उतर गए थे --पास ही एक स्टाल पर ठंडा कोक पीने गए-- नीचे के चित्र तब उतारे जब लंच -टाइम हुआ था --वरना रोप-वे रुकते नही हे --चालू स्थिति में ही चड़ना पड़ता हे --वरना वो चेयर खाली जाती हे -

(रेखा की मम्मी,जो एक हार्ड पेशेंट भी हे )

(उतरने में बड़ा डर लग रहा हे ) 
(नीचे उतरते रोप-वे )
रोप वे पर जाने के लिए सबसे पहले रेखा की मम्मी तेयार हुई --सब डर रहे थे --मै तो डरने में नंबर वन हूँ --ऊंचाई  देखकर मेरी हालत पतली हो जाती हे -सबसे आखिर में मुझे चड़ा ही दिया --इतना सुन्दर नजारा था और मैने आँखे बंद कर रखी थी--कुछ ऊपर आई तो हाथो के झरोखो से देखा,  सामने वाले झूले में एक जवान लडकी मुझे देखकर हंस रही थी --वो ऊपर से नीचे उतर रही थी -मुझे बड़ी शर्म आई मेने तुरंत आँखे खोल दी -दिल मजबूत किया --और सबकुछ ठीक था --डर भाग चूका था --इतना सुन्दर माहोल !क्या कहने --? आप हवा में तैर रहे हो एक कुर्सी पर बैठे हुए --नीचे दूर तक जमींन नही दिख रही हो;   कैसा लगेगा ? एक गाना याद आ रहा हे ---
                   " आज मै ऊपर आसमा नीचे "               

नीचे उतरते ही तेज भूख लगी फिर वही एक छोटे -से होटल में खाना खाया --३ बज गए थे अब हम नालंदा जा रहे थे--नालंदा पटना शहर से सिर्फ १३ की. मी. हे --यहाँ विद्यालय तो नही हे पर उसके अवशेष जरुर हे --पास ही एक लेजर शो का हाल था जो हमे नालंदा के बारे में बताएगा--हम सब वो देखने चल दिए टिकिट था २० रु. --बहुत अच्छा शो लगा---        

(नालंदा के खँडहर )


(नालंदा के खंडहर ) 



(खूब सुरत बगीचा )

नालंदा सड़क से २कि. मी. अन्दर हे --पैदल जाना पड़ता हे --रास्ता बड़ा सुन्दर हे पर गर्मी  से परेशान हो गए-- इसलिए ज्यादा धूम नही सके --थोड़ी दूर जाकर वापस आ गए --
नजदीक ही पावपूरी ५कि. मी.दूर थी नालंदा से --जहाँ जेन मन्दिर थे और गर्म पानी के कुंड थे --पर सब थक गए थे --इसलिए प्रोग्राम केंसिल कर के वापस पटना चल दिए --|     

( वापस आते हुए ) 

(गंगा किनारे एक फोटू )

वापस लोट रहे थे तब ड्राइवर ने बताया की आप लोग बोध्दगया क्यों नही गए --किसी को पता ही नही था --सबलोग उसी पर चड गए --पहले क्यों नही बताया -?वो बोला मुझे क्या मालूम आप लोग मेरे मालिक से मिले थे -खेर ,इस बार छुट गया अगली बार देखेगे --

जारी ---

20 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय दर्शन कौर जी
नमस्कार !
बहुत ही सुन्दर सैर तस्वीरों के साथ बहुत खूबसूरत हैं
यात्राओं का सचित्र सुंदर वर्णन ..... धन्यवाद इस खूबसूरत प्रस्तुति के लिये...

संजय भास्कर ने कहा…

आपके साथ पटना राजगीर नालंदा की यात्रा करके बहुत अच्छा लगा

संजय भास्कर ने कहा…

सभी फोटो सुंदर है पर सहेलियों के साथ वाला ज्यादा सुंदर लगा

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

धन्यवाद संजय जी, आगे की यात्रा के लिए भी तेयार रहे --हमेशा की तरह --:)

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

रोचक यात्रा वर्णन ...चित्र भी बहुत खूबसूरत हैं ...आपके साथ हमने भी नालंदा घूम लिया

sagebob ने कहा…

बहुत ही सुन्दर यात्रा-नामा .तसवीरें बहुत ही सुन्दर,बहुत कुछ ब्यान कर देती हैं.
आपकी अगली पोस्ट का हमेशा इंतज़ार रहता है.
सलाम.

वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर ने कहा…

आपका ब्लॉग हमें भी सैर कराता चलता है।

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

vadiyaa chitran kiya hai ji...!!

Akshita (Pakhi) ने कहा…

अले, एक ही पोस्ट में इत्ता सारा घूम लिया...मजा आ गया.
______________________________
'पाखी की दुनिया' : इण्डिया के पहले 'सी-प्लेन' से पाखी की यात्रा !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

हाँ बोध गया जाना चाहिए था ... आप पटना घूम आईं , वर्णन इतना सजीव किया है कि सबकुछ आँखों के आगे जीवंत हो उठा . काश मैं पटना में होती तो अपने घर बुलाती ...

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@ सगेबोब जी
@वृक्षा रोपण जी
@ संगीता जी
@सुरेन्द्र जी
@पाखी जी
@रश्मी जी
सबको धन्यवाद इसी तरह आते रहे --:)

ZEAL ने कहा…

चित्रों के साथ बिलकुल सजीव संस्मरण । आनंद आ गया ।

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA ने कहा…

चाय नाश्ते और भूख के साथ एक और रोचक सफ़रनामा । दर्शन जी आपको भूख बहुत
लगती है क्या ? कमोवेश आपके हर लेख में लंच डिनर का जिक्र अवश्य होता है । खैर
रब्ब दी इस दुनियाँ में आये हो । तो खाओ । पियो । मौज उङाओ । खाना पीना हँसना
बोलना । सबसे प्यार मुहब्बत से पेश आना । यही इंसानियत की बेहतर पहचान है ।
अब मुझे भी भूख लग आयी । वरना टिप्पणी और भी लिखता । शेष लंच के बाद ।

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

हरीश सिंह ने कहा…

आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. कृपया यहाँ भी आयें और इसके समर्थक बन कर हिंदी का मान बढ़ाये. हम आपका इंतजार करेंगे.
http://uttarpradeshbloggerassociation.blogspot.com इस सामुदायिक ब्लॉग का लेखक भी बने, हमें मेल करे. indianbloger@gmail.com

समय मिले तो एक बार मेरे घर में भी घूम जाएँ . मेरा पता है. http://blostnews.blogspot.com

हम आपका इंतजार करेंगे.

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत सुंदर तस्वीरें उतार लाईं हैं आप।
इसी महीने नालंदा राजगीर से आए हैं तो सब यादें ताज़ा हो गई। \बहुत आच्छा यात्रा संस्मरण।

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@dhanuvad manoj ji---
@harish ji --
@satyam ji --
@divyaji--

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@राजीव जी, इतनी व्यस्तता के बाबजूद आप यहाँ आए --धन्यवाद |
मेरी अगली पोस्ट खाने से ही शुरू हो रही हे --माफ़ी !
पंजाबी लोग ऐसे ही होते हे राजीव साहेब ! पहले खाजा,फिर काम दूजा ! धन्यवाद

Patali-The-Village ने कहा…

पटना राजगीर नालंदा की यात्रा करके बहुत अच्छा लगा| धन्यवाद्|

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
सूचनार्थ