मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

शनिवार, 22 अक्तूबर 2011

कशमकश !!!



" मत पूछो ऐ दुनियां वालों कैसे  मेरी  किस्मत फूटी !
अपनों ने ही मेरे बनकर मेरे प्यार की दुनियां लुटी !!"







उनके जाने से मेरे दिल का वो कोना खाली हैं 
जहाँ  सजाई थी मैनें  कभी तेरी इक तस्वीर 
तंग गलियां !सुनी दीवारे ! जंगल में पड़ी इक मज़ार !
यादों का झुरमुट हैं या गुज़रे दिनों की बहार ...

तेरे रहने से इस बे-जान हंसी ने ,
 ठहाकों  का रूप लिया था कभी ,
जमी हुई ओंस ने तब --
 पिधलना शुरू कर दिया था --
बर्फ की मानिंद इस जमी हुई रूह को 
अब, तेरे आगोश का इन्तजार रहेगा ----?

भटकती रही हूँ दर -ब -दर 
तेरे  कदमों  के निशाँ  ढूंढती  हुई 
इस भीड़ में अब कोई मुझे पुकारेगा नहीं---?

कोई गलती नहीं थी फिर भी सज़ा पा रही हूँ मैं ---
तुझसे दिल लगाया क्या यही जुर्म हुआ मुझसे ?

न मैं समझ सकी, न तुम बता सके --
जिन्दगी के ये फलसफे ..उलझकर रह गए 
उलझे हुए तारो को सुलझा सकी नहीं कभी --
इस उलझन में हम कब उलझ गए पता ही नहीं ???   

   



मेरी पेंटिंग --दर्शन !



16 टिप्‍पणियां:

Rakesh Kumar ने कहा…

कोई गलती नहीं थी फिर भी सज़ा पा रही हूँ मैं
तुझसे दिल लगाया क्या यही जुर्म हुआ मुझसे ?

उफ़! क्या दर्द और कशमकश है,दर्शी जी.

भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए आभार.

समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.

संगीता पुरी ने कहा…

सुंदर अभिव्‍यक्ति !!

दर्शन कौर ने कहा…

@धन्यवाद राकेश जी
@धन्यवाद संगीता जी

sushma 'आहुति' ने कहा…

बेहतरीन अभिवयक्ति....

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

पुरानी डायरी आखिर खुल ही गयी।
बहुत कुछ संजो रखा है आपने ।

जगमग दीप जले

विशाल ने कहा…

न मैं समझ सकी, न तुम बता सके --
जिन्दगी के ये फलसफे ..उलझकर रह गए

आदरणीया दर्शन जी,
यह कशमकश न जीने देती है न मरने.
बस सांस सांस दर्द की सूरत में बयाँ होती रहती है.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बड़ी गहरी कश्मकश है ... भावों को खूबसूरती से उकेरा है

आकाश सिंह ने कहा…

बिन तेरे न एक पल हो| न बिन तेरे कभी कल हो||

प्रिय दर्शन कौर जी नमस्कार | आपकी लेखनी को मैं कैसे सलाम करूँ मेरे समझ में नहीं आ रहा है वाकई में बहूत खूब| आपको दिवाली की हार्दिक बधाई |

रविकर ने कहा…

दीपावली की शुभकामनाएं ||
सुन्दर प्रस्तुति की बहुत बहुत बधाई ||

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अपने ही लूटते हैं अक्सर ...

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत खूबसूरत. .दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं..

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

boht vadiyaa jee

***Punam*** ने कहा…

दीपावली की शुभ कामनाएं......
sundar prastuti....

mahendra verma ने कहा…

प्रेम के रूप हजार। बहुत सुंदर कविता।
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

सागर ने कहा…

bhaut hi sundar... happy diwali...

संजय भास्कर ने कहा…

प्रभावशाली प्रस्तुति
आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

संजय भास्कर
आदत....मुस्कुराने की
नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
http://sanjaybhaskar.blogspot.com