मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

गुरुवार, 27 अक्तूबर 2011

याद....!!!









याद आते हो तो कितने ----
अपने -से लगते हो तुम ----
वर्ना,  हर लम्हां गुजरता हैं   ----
तुम्हारे ख्यालो में ----
चुप -सी आँखों में आज ----
फिर वही सवाल उठा ----
क्या राहत मिलेगी मुझे ----
इन बंद फिजाओ में ----?
खेर, अँधेरे  भी  भले -जीने के लिए ----
गैर, हो जाते हैं  सभी चेहरे उजालो में----
मुस्कुराओ तो भी अच्छा हैं  ----
बेरुखी भी भली तुम्हारी ----
बेअसर हैं  सभी बाते यहाँ मलालो में ----
याद आते हो तो एहसास -ऐ -ख़ुशी मिलती हैं  ----
यूँ तसल्ली भी गिरफ्तार हैं ---
सौ (१००) तालो में----???????   










16 टिप्‍पणियां:

SANDEEP PANWAR ने कहा…

भैयादूज पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।

संजय भास्‍कर ने कहा…

....सुन्दर प्रस्तुति....भाईदूज की शुभकामनाएं.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

सुन्दर रचना!
भइयादूज की शुभकामनाएँ!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत रचना ..

G.N.SHAW ने कहा…

मर्म और प्यार भरी कविता बधाई
मेरा ब्लॉग न खुल रहा हो तो अब मेरे नए लिंक का उपयोग करें -

बालाजी के लिए www.gorakhnathbalaji.blogspot.com
OMSAI के लिए www.gorakhnathomsai.blogspot.com
रामजी के लिए www.gorakhnathramji.blogspot.com

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर!
--
कल के चर्चा मंच पर, लिंको की है धूम।
अपने चिट्ठे के लिए, उपवन में लो घूम।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

रचना बहुत सुन्दर है ।

संगीता पुरी ने कहा…

अच्‍छी रचना ..

Asha Lata Saxena ने कहा…

सुन्दर भाव लिए कविता |
दूज पर शुभ कामनाएं |
आशा

Maheshwari kaneri ने कहा…

खूबसूरत रचना ..

मदन शर्मा ने कहा…

आदरणीय दर्शन कौर जी नमस्ते !
याद आते हो तो कितने ----
अपने -से लगते हो तुम ----
वर्ना, हर लम्हां गुजरता हैं ----
तुम्हारे ख्यालो में --
मुस्कुराओ तो भी अच्छा हैं ----
बेरुखी भी भली तुम्हारी ----
याद आते हो तो एहसास -ऐ -ख़ुशी मिलती हैं ---
वाह ! क्या कहने माशा अल्लाह !!
बहुत ही खूबसूरती से आपने ह्रदय के भावों को व्यक्त किया है ! धन्यवाद !
मेरी तरफ से आपको भैयादूज पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ!!!!!

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

याद आते हो तो कितने ----
अपने -से लगते हो तुम ----
वर्ना, हर लम्हां गुजरता हैं ----
तुम्हारे ख्यालो में ----

ओये होए .....!!!!!
बधाइयाँ जी बधाइयाँ .....
बस ताले मत खोलें .....:))

संध्या शर्मा ने कहा…

सुन्दर, प्यार भरी रचना...

महेन्‍द्र वर्मा ने कहा…

अपने ही तो याद आते हैं।

बहुत अच्छी कविता।
श्वेत-श्याम चित्र बहुत कलात्मक लग रहा है।

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

वाह, बहुत सुंदर

Rakesh Kumar ने कहा…

यूँ तसल्ली भी गिरफ्तार हैं ---
सौ (१००) तालो में----???????

कौन से वाले ताले हैं ये,दर्शी जी.
आप भी क्या कविता लिखतीं हैं.
निराले अंदाज के लिए बधाई