मेरे अरमान.. मेरे सपने..


Click here for Myspace Layouts

गुरुवार, 30 जून 2011

बड़े.....अच्छे लगते है .....

   






" बड़े...अच्छे लगते है ...
ये धरती..ये नदियाँ ..ये रैना ..और तुम ...?"




******************************************************************


पर 'तुम' की परिभाषा मेरी निगाहों में जरा भिन्न है :--  


"तुम वो हो जिससे मैं प्यार करती हूँ 
तुम वो हो जिसे मैं पसंद करती हूँ 
तुम वो हो जिसको मैं दिलो -जान से चाहती हूँ 
तुम वो हो जिसको मैं सपनो में देखती हूँ 
तुम वो हो जिसके ख्यालो में, मै मग्न रहती हूँ 
तुम वो हो जिसको में दिल से महसूस करती हूँ  
तुम वो हो जिससे मैं तन्हाईयो में बातें करती हूँ "






  पर तुम मुझे नही जानते..?
     और न ही मुझे पहचानते...??? 
तुम वो हो जो मुझसे प्यार नही करते ?
तुम वो हो जो मेरे सपने नही देखते ?
तुम वो हो जो मेरे ख्यालो को नही बुनते ? 
तुम वो हो जो मुझसे बातें नही करते ?







यह मै जानती हूँ ?
" काश,तुम मुझको जानते ? 
काश , तुम मुझसे प्यार करते ?
काश , तुम मेरा ख्याल अपने दिल में रखते ?
काश ,तुम मुझको दिल से महसूस करते ?
काश ,तुम मेरे होकर रहते  ?
काश ,तुम मेरी चाहत में गिरफ्त होते ?
काश, तुम मुझसे तन्हाईयो में बातें करते ...?"




 अगर ऐसा होता तो !!!!
" पतझड़ को मधुमास बनाती ,
सूने वीराने में गाती !
स्वर्ग ह्दय से दूर कहाँ था ,
जो तेरा आश्रय पा जाती !
हंसती तो खिल जाती कलियाँ ,
पग -पग पर झड़ती फुलझड़ियाँ !
ये उदास अनजानी राहे ,
बन जाती वृन्दावन गलियाँ !
मिल जाती मंजिल बांहों में ,
 घुल जाता अमृत चाहो में ,
हो जाता हर समय सुहाना ,
साथ तुम्हारा जो पा जाती !
एक नया संसार सजाती .
एक नया इतिहास रचाती !
उदाहरण  बन जाता मेरा जीवन ,
जो तेरा सहचर्य पा जाती ! "






काश ,तेरी प्रीत जो पा जाती ?
जीवन में खुशियाँ छा जाती ? 
  
मुस्कुराती हर सुबह सुहानी !
दूर हो जाती हर जगह वीरानी !  





26 टिप्‍पणियां:

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

Kaun hai ye TUM?????
Jo bhi hai...uske liye iss kavita ki panktiyan bta rahi hai...wo aham hai..aur na sirf aham hai...jindagi hai...khushiyan hai...ruhani khusboo hai...muskurati jindagi hai....:)

wah jee wah!!
sach me islye log kahte hain...darshan jee dil se likhti hain...:)

mahendra srivastava ने कहा…

बहुत सुंदर रचना.

काश ऐसा होता,
जिसे लोग चाहते, वो सामने होता

artijha ने कहा…

waah maa aapne to mujhdh kar dala...aesi kabita jo koi 16 saal ki umar me likhta hai wahi mahsush ho raha hai isme...lajabab

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@मुकेशजी शुक्रिया
@महेंदर जी शुक्रिया
@आरती बेटा.दिल कभी बुड्डा नही होता ,हमेशा जवान ही रहता है ...खुशियाँ बांटो ..हमेशा आपको भी खुशियाँ ही मिलेंगी

सदा ने कहा…

मुस्कुराती हर सुबह सुहानी !
दूर हो जाती हर जगह वीरानी !

वाह ...बहुत खूब कहा है ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

आशुतोष की कलम ने कहा…

'तुम"
न जाने किस जहाँ में खो गए

बधाइयाँ

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut bhut khubsurat ehsaas...

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

ये भी कोई रचना है,
अजी ये तो एक सच्चे घुमक्कड के दिल की सच्ची बाते है,

कि मैं झूठ बोल्या, बताना जरुर

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति प्रस्तुति।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रवि्ष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

मुस्कुराती हर सुबह सुहानी !
दूर हो जाती हर जगह वीरानी !

बहुत सुंदर पंक्तियाँ

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

हर तरह की संभावनाओं को बता दिया ... सुन्दर अभिव्यक्ति

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना..

dipak kumar ने कहा…

very nice post chhotawriters.blogspot.com

कुश्वंश ने कहा…

बहुत ही सुन्दर कविता वास्तविक अर्थों में ,हृदय में कही अन्दर रची बसी बात निकलने को आतुर बधाई

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

मस्त कविता है।
उमड़ते घुमड़ते विचारों का चित्रण बढिया रहा।
दिल जवान ही होना चाहिए

aarkay ने कहा…

भावनाओं से ओत प्रोत सुंदर अभिव्यक्ति !

H P SHARMA ने कहा…

कोई हतभागी होगा जो इतने निर्मल प्यार को महसूस नहीं कर रहा होगा. आपके भाव का प्रवाह बहुत सुन्दर है और भावना अति सुन्दर. ठीक आपकी तरह.

S.N SHUKLA ने कहा…

Dil ki awaj ki bahut sundar prastuti

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

@बिलकुल झूठ नही बोला तुमने संदीप घुम्म्कड़ो का दिल हमेशा जवान होता हैं ...

@सही कहा ललित जी जब दिल जवान हो तो हर जगह मस्तियाँ ही नजर आती हैं ..वो कहते हैं न 'जवानी चार दिन की ...अभी तो दूसरा दिन चल रहा हैं '...

Rajesh Kumari ने कहा…

dil ki bhaavnaon ko udel kar rakh diya kash vo sab roobro ho jaaye jo khvaabon me dekhte hain.

श्यामल सुमन ने कहा…

बहुत खूब दर्शन जी
सादर
श्यामल सुमन
09955373288
http://www.manoramsuman.blogspot.com
http://meraayeena.blogspot.com/
http://maithilbhooshan.blogspot.com/

Roshi ने कहा…

bahut hi bhav poorn kavita

Rakesh Kumar ने कहा…

मुस्कुराती हर सुबह सुहानी !
दूर हो जाती हर जगह वीरानी !

दर्शी जी को सादर नमन.
अच्छा कर रहीं हैं भजन
मन हो रहा है मगन
कैसी लगी ये दिल में लगन.

'" बड़े...अच्छे लगते है ...
ये धरती..ये नदियाँ ..ये रैना ..और तुम ...?"

Richa ने कहा…

'" बड़े...अच्छे लगते है ...

वन्दना ने कहा…

मन के कोमल भावो का बहुत ही सुन्दर चित्रण किया है दर्शन जी।